Kumbhalgarh Fort, Rajsamand

4.5
#1 of 10 in Things to do in Rajsamand District
Pay a visit to the UNESCO World Heritage Site of Kumbhalgarh Fort, a 15th-century fortress that boasts a 38 km (23.5 mi) long wall, the second largest in the world after the Great Wall of China. The fort was abandoned in the 19th century, and today you can explore its massive stone walls, gates, and bastions. Admire the hundreds of Hindu and Jain temples within the fortress, or take a guided tour to learn more about the history of the majestic structure. It couldn't be easier to arrange your visit to Kumbhalgarh Fort and many more Rajsamand attractions: make an itinerary online using Inspirock's Rajsamand driving holiday planner.
Create an itinerary including Kumbhalgarh Fort
map
Kumbhalgarh Fort Reviews
Rate this attraction
TripAdvisor Traveler Rating
TripAdvisor Traveler Rating 4.0
1,594 reviews
Google
4.5
TripAdvisor
  • Serene view from top of the Fort. The climb was quiet steep with a well laid pathway and intermediate view points  more »
  • It is absolutely the most beautiful and majestic castle of Rajasthan, one of those who will never forget for the grandeur, the winding road to get to its 38 Km of walls that make it second in the world after the great wall and for the difficult climb to go dere of the incomparable panorama you can enjoy once on top. Note that tourists are a very small portion of visitors and the Fort as a military structure is not rich in embellishment but anyway nice to visit. The Interior of the walls is dotted with temples of which the nicest maybe is nearest to access. Needless to say, is not to be missed
    View original
  • The kumbhalgarh fort is definitely the most precious piece of indian history. It is truely a must place to visit if you have interest in history and culture. A good enough place to spend whole day. Go...  more »
Google
  • Awesome place to see the way how such forts are build. Light and sound show is good but not that great. Lights on Fort at night time is awesome. After great wall of China this is the the longest wall build. Definitely should visit once in a life time. Note : Take govt guide to get the history behind this Fort. Also parking is tough in pick holiday season.
  • One can only marvel at the vision in building this fort. It is being restored to its former glory and is delight if you enjoy long walks climbing up the hillside without having to do rock climbing. There is a proper tar road but vehicles are not allowed up the Fort which makes the journey up enjoyable
  • इस किले के इतिहास को लेकर प्रयाप्त जानकारी उपलब्ध ना होने के कारण हम इस किले के इतिहास को लेकर ज्यादा कुछ नही कह सकते। कहा जाता है की इस किले का प्राचीन नाम मछिन्द्रपुर था, जबकि इतिहासकार साहिब हकीम ने इसे माहौर का नाम दिया था। माना जाता है की वास्तविक किले का निर्माण मौर्य साम्राज्य के राजा सम्प्रति ने छठी शताब्दी में किया था। 1303 AD में अलाउद्दीन खिलजी के आक्रमण करने से पहले का इतिहास आज भी अस्पष्ट है। आज जिस कुम्भलगढ़ किले को देखते है उसका निर्माण हिन्दू सिसोदिया राजपूतो ने करवाया और वही कुम्भ पर राज करते थे। आज जिस कुम्भलगढ़ को हम देखते है उसे प्रसिद्ध आर्किटेक्ट एरा मदन ने विकसित किया था और अलंकृत किया था। राणा कुम्भ का मेवाड़ साम्राज्य रणथम्बोर से ग्वालियर तक फैला हुआ है जिनमे मध्यप्रदेश राज्य का कुछ भाग और राजस्थान भी शामिल है। कुल 84 किले उनके अधिराज्य में थे, कहा जाता है की राणा कुम्भ ने उनमे से 32 किलो को डिजाईन किया था। कुम्भलगढ़ ने मेवाड़ और मारवाड़ को भी अलग-अलग किया है और उस समय मेवाड़ के शासको द्वारा इन किलो का उपयोग किया जाता था। एक प्रसिद्ध घटना यहाँ राजकुमार उदय को लेकर घटित हुई थी, 1535 में इस छोटे राजकुमार की यहाँ तस्करी की गयी थी, उस समय चित्तोड़ घेराबंदी में था। बाद में राजकुमार उदय ने ही उदयपुर शहर की स्थापना की थी। इसके बाद यह किला सीधे हमले के लिये अभेद्य ही रहा और एक बाद पानी की कमी की वजह से ही किले को थोड़ी क्षति पहुची थी। अम्बेर के राजा मान सिंह, मारवाड़ के राजा उदय सिंह, मुघल सम्राट अकबर और गुजरात में मिर्ज़ा के लिये पानी की कमी को पूरा करने की वजह से यहाँ पानी की कमी आयी थी। गुजरात के अहमद शाह प्रथम ने 1457 में किले पर आक्रमण किया था लेकिन उनकी कोशिश व्यर्थ गयी। स्थानिक लोगो का ऐसा मानना है की किले में स्थापित बनमाता देवी ही किले की रक्षा करती है और इसीलिए अहमद शाह प्रथम किले को तोडना चाहता था। इसके बाद 1458-59 और 1467 में महमूद खिलजी ने किले पर आक्रमण करने की कोशिश की थी लेकिन वह भी असफल रहा। कहा जाता है की 1576 से किले पर अकबर के जनरल शब्बाज़ खान का नियंत्रण था। 1818 में सन्यासियों के समूह ने किले की सुरक्षा करने का निर्णय लिया था लेकिन फिर बाद में किले पर मराठाओ ने अधिकार कर लिया था। इसके बाद किले में मेवाड़ के महाराणा ने कुछ बदलाव भी किये थे लेकिन वास्तविक किले का निर्माण महाराणा कुम्भ ने ही किया था। और बाद में किले की बाकी इमारतो और मंदिर की सुरक्षा भी की गयी थी। कुम्भलगढ़ किले की संस्कृति राजस्थान पर्यटन विभाग हर साल महाराणा कुम्भ की याद में तीन दीन एक विशाल महोत्सव का आयोजन कुम्भलगढ़ में करता है। तीन दिन के इस महोत्सव में किले को रौशनी से सजाया जाता है। इस दौरान नृत्य कला, संगीत कला का प्रदर्शन भी स्थानिक लोग करते है। इस महोत्सव में दूसरी बहुत सी प्रतियोगिताओ का भी आयोजन किया जाता है जैसे की किला भ्रमण, पगड़ी बांधना, युद्ध के लिये खिंचा तानी और मेहंदी मांडना इत्यादि। राजस्थान के छः किले मुख्यतः आमेर का किला, चित्तोडगढ किला, जैसलमेर किला, कुम्भलगढ़ किला और रणथम्बोर किले को जून 2013 में पेन्ह में आयोजित वर्ल्ड हेरिटेज साईट की 37 वी मीटिंग में इन्हें यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में शामिल किया गया था। राजपूताने की शान के नाम से मशहूर कुम्भलगढ़ किले से एक तरफ सैकड़ो किलोमीटर में फैले अरावली पर्वत श्रृंखला की हरियाली दिखाई देती हैँ जिनसे वो घिरा हैँ, वहीँ दूसरी तरफ थार रेगिस्तान के रेत के टीले भी दिखते हैँ। कहा जाता है की कुम्भलगढ़ किले को देश का सबसे मजबूत दुर्ग माना जाता है जिसे आज तक सीधे युद्ध में जीतना नामुमकिन है। गुजरात के अहमद शाह से लेकर महमूद ख़िलजी सभी ने आक्रमण किया लेकिन कोई भी युद्ध में इसे जीत नही सका।
  • A beautiful place to check out if you visit Udaipur. Very different from other forts that I have visited with very unique planning and design of spaces. Mostly well preserved and good view points. Has basic amenities spread out throughout for convenience.
  • Very nice place for tourists. It is a heaven for students and knowledge thirsty people. For those who want to come here for witness the archeological marvels and beauty of the terrain must spend 2 days at least. Come in small groups to enjoy much.

Plan your trip to Rajsamand

  • Get a personalized plan

    A complete day-by-day itinerary
    based on your preferences
  • Customize it

    Refine your plan. We'll find the
    best routes and schedules
  • Book it

    Choose from the best hotels
    and activities. Up to 50% off
  • Manage it

    Everything in one place.
    Everyone on the same page.

Where to stay in Rajsamand

Browse hotels, guesthouses, and unique homes and book your stay on the world's leading accommodation sites.
Live like a local, find unique places to stay
Millions of travel reviews on TripAdvisor

Plans in Rajsamand by other users

2 days in Rajsamand BY A USER FROM INDIA February, popular PREFERENCES: February ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 10 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA October, culture, historic sites, popular PREFERENCES: October, culture, historic sites ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 8 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA October, culture, relaxing, historic sites, popular PREFERENCES: October, culture, relaxing, historic sites ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 9 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA January, popular PREFERENCES: January ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 16 days in Rajasthan BY A USER FROM LUXEMBOURG March, culture, historic sites, popular PREFERENCES: March, culture, historic sites ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 13 days in Rajasthan BY A USER FROM CANADA February, popular PREFERENCES: February ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 47 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA March, romantic, beaches, historic sites, shopping, popular PREFERENCES: March, romantic, beaches, historic sites, shopping ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 16 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA March, popular PREFERENCES: March ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 2 days in Rajsamand BY A USER FROM INDIA April, popular PREFERENCES: April ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 2 days in Rajsamand BY A USER FROM INDIA April, popular PREFERENCES: April ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium 3 days in Rajsamand BY A USER FROM INDIA February, slow & easy, hidden gems PREFERENCES: February ATTRACTION STYLE: Hidden gems PACE: Slow & easy 24 days in Rajasthan BY A USER FROM INDIA February, outdoors, beaches, historic sites, shopping, popular PREFERENCES: February, outdoors, beaches, historic sites, shopping ATTRACTION STYLE: Popular PACE: Medium
View more plans